khabarbhadas.com

.
Previous Next
  • 1
  • 2
  • 3
  • 4
  • 5
  • 6
  • 7
  • 8
  • 9
  • 10
  • 11
  • 12
जिंक ने किया करोड़ो रूपयों का भूमि घोटाला जिंक ने किया करोड़ो रूपयों का भूमि घोटाला   देश की सुरक्षा की दृष्टी से बनी कंपनी मेटल मेटल कॉरपोरेशन ऑफ  इण्डिया (हिदुस्तान जिंक) के विनिवेश के मामले में सीबीआई कार्यालय जोधप... Read more
सरकारी खजाने पर डाका, विधवा एक पेंशन दो सरकारी खजाने पर डाका, विधवा एक पेंशन दो   चित्तौडग़ढ़। राज्य सरकार की महत्वाकांक्षी पेंशन योजनाओं में जरूरतमंदों को लाभ मिल रहा है या नहीं यह कहना तो मुश्किल है, लेकिन इतना जरूर ... Read more
मुस्लिम राष्ट्रीय मंच मुस्लिम राष्ट्रीय मंच मुस्लिम राष्ट्रीय मंच के राष्ट्रीय संगठन संयोजक गुजरात में ज़मीनी स्तर पर ठोस कार्य करते हुए, साथ में सहसंयोजक श्री गनी कुरैशी जी भी है। Read more
 ब्रिक सम्मेलन में चीन के सामनें मनमोहन सिंह के मौन के मायनें? ब्रिक सम्मेलन में चीन के सामनें मनमोहन सिंह के मौन के मायनें?     मनमोहन सिंह क्यों मौन रहे चीन के सामनें?   पिछले दिनों हमारें प्रधान मंत्री मनमोहन सिंह ने डरबन में ब्रिक्स शिखर... Read more
सलमान खुर्शीद किस देश के विदेश मंत्री हैं सलमान खुर्शीद किस देश के विदेश मंत्री हैं  लद्दाख में चीन की जन मुक्ति सेना की घुसपैठ और भारतीय क्षेत्र के बीस किलोमीटर ( पहले सूचना यह थी कि दस किलोमीटर के अन्दर) अन्दर आकर अपनी चौकिय... Read more
अनिल गोयल की ‘माँ: भाव यात्रा’ प्रदर्षनी अनिल गोयल की ‘माँ: भाव यात्रा’ प्रदर्षनी   4 से 7 अप्रैल तक उज्जैन की कालिदास वीथिका में उज्जैनवासी देख सकेंगे माता-पिता, बुज़ुर्गों पर केन्द्रित मार्मिक कविता पोस्टर प्... Read more
एक संविधान, फिर दो विधान क्यों? एक संविधान, फिर दो विधान क्यों? भारतीय संविधान का अनुच्छेद 14 चीख चीख कर कहता है कि भारत में सभी लोगों को कानून के समझ समान समझा जायेगा और सभी लोगों को कानून का समान संरक्षण प्राप... Read more
 नमो को हिटलर कहनें वाले पहले आपातकाल का स्मरण करें नमो को हिटलर कहनें वाले पहले आपातकाल का स्मरण करें   वर्तमान में चल रहे लोकसभा चुनाव पिछले सभी आम चुनावों से कई दृष्टियों से भिन्न भी हैं Read more
अल्पसंख्यक आयोग द्वारा ओडीशा में साम्प्रदायिक तनाव पैदा करने की साज़िश भारत सरकार का एक अल्पसंख्यक आयोग है । भारत सरकार का मानना है कि इस देश में अल्पसंख्यक सदा ख़तरे से घिरे रहते हैं । इस देश के लोग अल्पसंख्यकों को नष... Read more
जम्मू कश्मीर की अनकही कहा जम्मू कश्मीर की अनकही कहा जून और जुलाई का महीना भारत के राष्ट्रवादी आन्दोलन के इतिहास में महत्वपूर्ण स्थान रखता है । २३ जून १९५३ को डा० श्यामा प्रसाद मुखर्जी का श्रीनगर की ज... Read more
 रमज़ान सन्देश से लेकर कुत्ते के बच्चे के बीच भटकती सोनिया कांग्रेस रमज़ान सन्देश से लेकर कुत्ते के बच्चे के बीच भटकती सोनिया कांग्रेस रमज़ान का पवित्र महीना शुरु हो गया है । यह महीना हिजरी सम्वत का नौवाँ मास है और ईस्वी सम्वत के हिसाब से नौ जुलाई को शुरु हुआ है । इस महीने में मुसल... Read more
भारतीय भाषाओं का मोर्चा:गूँगे राष्ट्र को बोलने हेतु प्रेरित करने की लड़ाई अन्ततः दिल्ली पुलिस ने श्याम रुद्र पाठक को आपराधिक प्रक्रिया संहिता की धारा १०५ और १०७ के अन्तर्गत गिरफ़्तार कर ही लिया । पाठक पिछले २२५ दिनों से स... Read more
खुली आंखों में सपने रातें बीयर बार के हवाले खुली आंखों में सपने रातें बीयर बार के हवाले मुंबई। आठ वर्षों से रोजी रोटी के संकट से झुझ रही बार बालाओं के 'डांस बारÓ को लेकर उच्चन्यायालय के फैसले ने बार बालाओं की चमक लौटा दी ... Read more
पिता के बाद पुत्र का कारनामा पिता के बाद पुत्र का कारनामा पीडि़त महिला फरियाद लेकर पहुंची पुलिस की शरण में इंदौर। आसाराम के बाद अब उनका लड़का नारायण सांई के खिलाफ भी एक परिवाद पेश किया जा रहा है। यह पर... Read more
औंकारेश्वर में बाबा बनाम डकैत-४ औंकारेश्वर में बाबा बनाम डकैत-४ जिसने सहयोग किया उसी की पीठ पर छूरा घोपा संजय ने नकली बाबा के कारनामों से लोगों में भारी रोष औंकारेश्वर। मां नर्मदा बने एक आश्रम में बने चौ... Read more
आष्टा,सिहोर,गुना के लीडरों से कड़ी पूछताछ जरुरी आष्टा,सिहोर,गुना के लीडरों से कड़ी पूछताछ जरुरी राधेश्याम सोलंकी,भरत ठाकुर, जयंत जोशी,अशोक पाटीदार,हेमंत चतुर्वेदी,मनीष जैन कर रहे हैं एसटीएफ को  गुमराह भोपाल। ईवमिरेकल ज्वेलर्स कंपनी... Read more
क्विंटलों व किलो से सोना है आडवाणी व आर.के.धवन के पास  क्विंटलों व किलो से सोना है आडवाणी व आर.के.धवन के पास जगदीश जोशी 'प्रचंड  ' नई दिल्ली। काला धन स्वीस बैंक में जमा होने व नेताओं को घेरने की बात पर आंदोलन खड़ा कर 'आप ' के सर्वेसर... Read more
दो लाख करोड़ का खनन घोटाला दो लाख करोड़ का खनन घोटाला देवास जिले में रेत माफिया का राज भोपाल। शिवराज के राज में माइनिंग माफिया ने बेल्लारी की लूट के रिकार्ड भी तोड़ दिए हैं। बीते 10 साल में मप्र... Read more
कांग्रेस गुटबाजी में तो भाजपा मंत्री विधायकों के आचरण और भ्रष्टाचार को लेकर कठघरे में कांग्रेस गुटबाजी में तो भाजपा मंत्री विधायकों के आचरण और भ्रष्टाचार को लेकर कठघरे में भोपाल। इस बार के चुनाव में मध्यप्रदेश पर कांग्रेस आलाकमान की विशेष निगाह है Read more
मध्यप्रदेश शासन द्वारा वरिष्ठ पत्रकारों को श्रद्धनिधि देने का कार्यक्रम इंदौर प्रेस क्लब में संपन्न हुआ। मध्यप्रदेश शासन द्वारा वरिष्ठ पत्रकारों को श्रद्धनिधि देने का कार्यक्रम इंदौर प्रेस क्लब में संपन्न हुआ। मध्यप्रदेश शासन द्वारा वरिष्ठ पत्रकारों को श्रद्धनिधि देने का कार्यक्रम इंदौर प्रेस क्लब में संपन्न हुआ। Read more
जिंदा इंसान को बनाया मुर्दा जिंदा इंसान को बनाया मुर्दा   पीडि़त सुरतानसिंह राजेस पयासी (वकील) यदि ऐसा मा... Read more
औंकारेश्वर में बाबा बनाम डकैत -2 औंकारेश्वर में बाबा बनाम डकैत -2 करोड़ों की जमीन से आया रुपया ब्याजखोरी में लगाया औंकारेश्वर। लाखों रुपया एठने वाले औंकारेश्वर के कथित Read more
देवास में की गई शिकायत से खुल सकता है लीडरों का मायाजाल देवास में की गई शिकायत से खुल सकता है लीडरों का मायाजाल ठगौरों का महानगर बनते जा रहे इंदौर में प्रशासन कोई खास कार्यवाही नहीं कर पाया अलबत्ता Read more
देवास,सिहोर पुलिस कप्तान की नजरों से ओझल दगाबाज लीडर देवास,सिहोर पुलिस कप्तान की नजरों से ओझल दगाबाज लीडर आखिर यह भरत ठाकुर,बाबूलाल जयंत,मनीष कौन है? राधेश्याम सोलंकी,         Read more
मेडम मोहिनी की माया... मेडम मोहिनी की माया... मेडम मोहिनी की माया... उत्कृष्ट को सजा और... निकृष्ट को  आशीर्वाद की छाया   -सेवानिवृत को भी बना  दिया संकुल प्रभारी  ... Read more
हिन्दूस्तान समाजवादी प्रजातंत्र सेना के पत्र से सनसनी हिन्दूस्तान समाजवादी प्रजातंत्र सेना के पत्र से सनसनी अमिताभ,मुलायमसिंह और सोनिया के पास है क़्वींटल सोना! आप पार्टी के सर्वे सर्वा अरविन्द केजरीवाल व योग गुरु बाबा रामदेव पर अपनी-अपनी दुकान चमकाने... Read more
सुविधाएं बेजार, यात्री लाचार सुविधाएं बेजार, यात्री लाचार निर्धारित किराए से अधिक वसूली होती है निजी बसों में (रतलाम कार्यालय) रतलाम । एक दशक पहले प्रदेश में सड़क परिवहन निगम की बसें बंद होने के बाद ... Read more
सोने की चाह लगाने वालो नई लगाया चुना सोने की चाह लगाने वालो नई लगाया चुना राधेश्याम सोलंकी, भरत, जयंत जोशी  मनीष जैन एसटीएफ के निशाने पर..   जगदीश जोशी 'प्रचंड ' भोपाल। आम आदमी को फटाफट अम... Read more
मेंडम नें मंगाई रिश्वत मेंडम नें मंगाई रिश्वत मेंडम नें मंगाई रिश्वत युवक से अनुकंपा नियुक्ति के नाम पर ले रहा था पांच हजार की रिश्वत, आदिवासी विकास विभाग की सहायक आयुक्त भी संदेह के घेरे ... Read more
कांग्रेस बेलगाम, दर्जनों दावेदार कांग्रेस बेलगाम, दर्जनों दावेदार  कांग्रेस बेलगाम, दर्जनों दावेदार बड़े नेताओं का अभाव दूसरा पंक्ति में नेताओं की कतार रतलाम से अनिल पांचाल विधानसभा चुनाव सिर पर है... Read more
पुँछ में पाकिस्तानी हमला और रक्षामंत्री का आचरण पुँछ में पाकिस्तानी हमला और रक्षामंत्री का आचरण जम्मू कश्मीर में पुँछ सेक्टर में पाकिस्तानी सैनिकों ने पांच और छह अगस्त की मध्य रात्रि को नियंत्रण रेखा के भीतर गश्त लगा रही भारतीय सैनिक टुकड़ी पर... Read more
कांग्रेस और भाजपा में नम्बर वन की तलाश कांग्रेस और भाजपा में नम्बर वन की तलाश रतलाम से अनिल कुमार रतलाम। हाल ही में जनता को लम्बे समय के बाद दर्शन देकर लौटे प्रदेश के मुख्यमंत्री ने लगभग शहर विधानसभा क्षेत्र में चुनावी बि... Read more
आहत जनता का आक्रोश भी अब जरूरी आहत जनता का आक्रोश भी अब जरूरी 67 वां स्वाधीनता दिवस स्वतंत्रता दिवस की क्रमवार गिनती में एक और वर्ष का इजाफा,सबकुछ भुलकर जश्न मनाने का एक और भारतीय दिन...लेकिन क्या सही म... Read more
तिब्बत के भीतर आजादी का आंदोलन तिब्बत के भीतर आजादी का आंदोलन तिब्बत के भीतर आजादी का आंदोलन कभी समाप्त नहीं हुआ। कभी प्रत्यक्ष और कभी प्रच्छन्न उसकी तपश बीजिंग तक पहुंचती ही रही। 2009 में स्वतंत्रता के लिए सं... Read more
तिब्बत की आजादी में भारत की सुरक्षा तिब्बत की आजादी में भारत की सुरक्षा नई दिल्ली। भारत तिब्बत सहयोग मंच की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक नई दिल्ली स्थित दीन दयाल शोंध संस्थान में आयोजित हुई जिसमें 19 प्रांतों क... Read more
तिब्बतःएक अवलोकन तिब्बतःएक अवलोकन क्षेत्रफल : २५ लाख वर्ग कि० मी० जो वर्तमान चीन के कुल क्षेत्रफल का २६.०४ प्रतिशत हैं। राजधानी : ल्हासा जनसंख्या : ६० ला... Read more
आरएसएस को राम मंदिर बनाने का अधिकार नहीं आरएसएस को राम मंदिर बनाने का अधिकार नहीं    'आरएसएस को राम मंदिर बनाने का अधिकार नहीं' भोपाल। आरएसएस अथवा किसी ऐसे दलको अयोध्या में भगवान राम का... Read more
चुनाव पूर्व गोविंदाचार्य खेल सकते है नया दांव चुनाव पूर्व गोविंदाचार्य खेल सकते है नया दांव नई दिल्ली । आगामी लोकसभा चुनाव में सत्त्ता सुख भोगने का सपना सजाए बैठी भाजपा की राह में रोडे अटकाने वालों की कमी नहीं है। भाजपा का अंतरकलह पार... Read more
पत्रकारिता से मीडिया तक वरिष्ठ पत्रकार मनोज कुमार की नई किताब पत्रकारिता से मीडिया तक वरिष्ठ पत्रकार मनोज कुमार की नई किताब वर्तमान में पत्रकारिता हाशिये पर है और मीडिया शब्द चलन में है.पत्रकारिता के गूढ़ अर्थ और मीडिया की व्यापकता को रेखांकित करता मध्यप्रदेश क... Read more
राम की मर्यादा कृष्ण का कर्म और कुसुम की खुशबु है मंत्री कुसमरिया में राम की मर्यादा कृष्ण का कर्म और कुसुम की खुशबु है मंत्री कुसमरिया में देखने, सुनने और बतियाने के बाद किसी भी एंगल से वे राजनेता नहीं लगते। कपाल पर बड़ा सा सिंदूरी टीका, सिर और दाड़ी के रंगे हुए सुनहरी काले गहरे ब... Read more
कॉलोनाइजर पर 1.13 करोड़ का जुर्माना कॉलोनाइजर पर 1.13 करोड़ का जुर्माना धार :बगैरअनुमति कालोनी विकास करने वालों कालोनाईजरों पर राज्य सरकार और जिला प्रशासन की गाज लगातार गिर रही है। इसी कड़ी में धार शहर में बगैर विक... Read more
जब आस्था में लगे सेक्स व हुस्न के तड़के! जब आस्था में लगे सेक्स व हुस्न के तड़के! नई दिल्ली: धर्म की आड़ में लोगों को धोखा देना आज के समय में काफी आसान है, क्योंकि हम देशवासी दिमाग से नहीं बल्कि दिल से धर्म को जोड़कर रखते है... Read more
ये कांग्रेस के कुंभकर्ण है ये कांग्रेस के कुंभकर्ण है   इंदौर।मध्यप्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष कांतिलाल भूरिया प्रदेष कांग्रेस में जान फंकने में लगे है लेकिन प्रदेष के कई पदाधिकारियों... Read more
अब भी सुलग रहा है भोजशाला मसला अब भी सुलग रहा है भोजशाला मसला अब भी सुलग रहा है भोजशाला मसलाएत पंचमी के दिन धार जिले की भोजशाला में हंगामे और उपद्रव के बीच पूजा के साथ नमाज अता फरमाने की रस्म पूरी हो जाने पर म... Read more
बोले तो आसाराम बोले तो आसाराम 90 के दशक में धर्मप्रेमी जनता के लिए आशा की किरण बन कर उभरे आसाराम बापू एक दशक बाद ही बदनामी के दाग अपनी आभा पर लगवा चुके हैं। आश्रम में बच्चो... Read more
बेटियों की 'देह' पर जिंदा समाज बेटियों की 'देह' पर जिंदा समाज मंदसौर।(धर्मवीर रत्नावत) जिस तरह देश में मंदसौर अफीम उत्पादन, तस्करी के लिए मशहूर है, उसी तरह नीमच, मंदसौर, रतलाम के कुछ खास इलाके भी बाछ... Read more

 

देश की सुरक्षा की दृष्टी से बनी कंपनी मेटल मेटल कॉरपोरेशन ऑफ  इण्डिया (हिदुस्तान जिंक) के विनिवेश के मामले में सीबीआई कार्यालय जोधपुर द्वारा हजारों करोड रूपये के घोटाले के मामले की प्रारंभीक जांच
 में गडबड़झाले की पुष्टी करते हुए अग्रिम कार्यवाही के सम्बंध मे मार्गदर्शन प्राप्त करने हेतु दिल्ली स्थित मुख्यालय को जांच की पत्रावलियां भेजी है । मुख्यालय से हरी झंडी मिलने के बाद लाभ लेने वाली कंपनियों, दोषी सरकारी अधिकारियों के खिलाफ अपराध की प्राथमिकी दर्ज की जा सकती है । सीबीआई जोधपुर के सूत्रों के अनुसार केन्द्र के विनिवेश मंत्राालय के सहयोग से स्टर लाईट कंपनी ने वर्ष २००२ में लाखों करोडो रूपये वाली कंपनी के ६४ प्रतिशत शेयर मात्र १२०० करोड में खरीद लिये थे।
 
 
विनिवेश का निर्णय होने पर कंपनी के शेयर काफी नीचे पहुच गये थे सरकार ने ४०० करोड रूपये आरक्षित दर तय की थी । सौदा न होने पर दोबारा मुल्यांकन करवाने पर शेयर की दर ओर कम कर दी गई थी, जबकी इस कंपनी में प्रारंभ से २००३ तक कोई घाटा नही हुआ था। उस वक्त स्टरलाईट कंपनी ने २६ प्रतिशत शेयर ४४५ करोड रूपयें में खरीद लिए थे, इतना ही नही उन्होने पब्लिक से २४ प्रतिशत शेयर खरीद डाले थे बाद में ओर शेयर खरीदने का अधिकार मिलने पर कुल ६४ प्रतिशत शेयर १५०० करोड रूपये में खरीद कर मालिकाना हक प्राप्त लिया था । सौदे के समय हिंदुस्तान जिंक के पास ८०,००० करोड रूपये की राशि, १५० मिलियन टन खनिज का भंडारण था व करीबन इतनी ही राशि का कबाड़ पड़ा हुआ था जिसका कोई हिसाब मुल्यांकन रिर्पोट मे नही दर्शाया गया था वही हरिद्वार जिंक प्लान्ट व पंथ नगर मेटल प्लान्ट रूद्रपुर (उत्तरांचल ) एवं कई कीमती चांदी, जिंक व अन्य घातुओ की खानों का उल्लेख मूल्यांकन रिर्पोट में नही है। वही घोसुण्डा बांध, विण्ड फार्म ओसियन जोधपुर (राजस्थान), सामना जामनगर (गुजरात), गडग-गडग (कर्नाटक), गोपालपुरा हसन  (कर्नाटक), मोकल  जैसलमेर (राजस्थान) चकला नादुंबर (महाराष्ट्र), मुय्यामपति, त्रिपुरा (तमिलनाडू) मूल्यांकन रिर्पोट में शामिल नही है।
 
क्या है मामला
 
हिदुस्तान जिंक लिमीटेड की टोटल जमीन (जो वेल्युवेशन में है) का मुल्यांकन टोटल 24.293.89 लाख का किया गया है गौरतलब बात यह है कि केवल चन्देरिया लेड जिंक स्मेल्टर 1331 बीघा के एरिया में स्थापित है तथा 311 बीघा में कपासन रोड़, नरपत की खेड़ी के पास आवासीय कॉलोनी स्थापित है जिनका तत्कालीन मुआवजा 18 करोड़ दिया गया । टोटल जमीन (चन्देरिया लेड जिंक स्मेल्टर) 1642.45 बीघा होती है । सन् 1988 की डीएलसी से देखा जाये तों भूमि अवाप्ति अधिकारी एच.विधानी के एक सरकारी आदेशानुसार 50,000 रूपये बीघा बताई गई है जबकी इस जमीन का बाजार भाव इससे १० गुना राशि का है चित्तौडगढ में करोडो रूपये की भूमी का घोटाला किया गया है इसी प्रकार जावर माईन्स, उदयपुर, राजपुरा दरीबा माईन्स, राजसमद, रामपुरा आगुचा माईन्स भीलवाडा, सिदेसर खुर्द माईन्स राजसमंद, दरीबा स्मलेटींग कॉम्पलेक्स राजसमंद  मटुन माईन्स उदयपुर, हिदुस्तान जिंक मुख्यालय का कार्यालय यशद भवन आदि की कई सम्पतियों की मूल्यांकन रिर्पोट में ९० प्रतिशत से भी कम दर्शायी गई है, जिसमें खरबो रूपये का नुकसान पहुचाया गया है। गौरतलब है कि अब सीबीआई कब और कितने मगरमच्छों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करवा पाती है?
 
 
सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार इस्पात व खान मंत्रालय ने हिंदुस्तान जिंक के निजीकरण में राष्ट्रीयकृत ईकाई मेटल कॉरपोरेशन ऑफ  इण्डिया द्वारा मेटल कानून 1976 का उल्लघंन कर संविधान के प्रावधानों के विपरीत कियें गये इस घोटालें में मेटल कॉरपोरेशन ऑफ  इण्डिया की भूमिका की जांच की आवश्यकता है जांच इस बात की भी हो रही है यह विनिवेश 4 हजार करोड़ की संपति का 445 करोड़ कैसे हो गया है  व यह हस्तातंरण पार्लियामेन्ट्री कमेटी के जरियें मेटल कानून व संवैधानिक प्रावधानों का संसद में प्रस्ताव पारित किये बिना हस्तातंरण व विनिवेश सम्भव  नही है, लेकिन पार्लियामेन्ट्री कमेटी को इसकी भनक तक नही लगने दी गई है। मेटल कॉरपोरेशन के कानून में बदलाव के बगैर यह विनिवेश गैर कानूनी होते हुए जांच में पार्लियामेन्ट्री कमेटी को भी साथ में लिया जाना चाहियें था । हिदुस्तान जिंक के 26 प्रतिशत सरकारी शेयर तथा उसका प्रबंधन 2002 में स्टरलाईट ऑप्टिकल एण्ड वैंचर्स लिमिटेड (एसओवीएल) को सौप दिया गया था । 1 वर्ष बाद 19 प्रतिशत सरकारी शेयर दे दीये गयें थे। 
 
 
इधर सीबीआई ने भी आगे छानबीन के लिये वेदान्त गु्रप के मालिक अनिल अग्रवाल सहित छ: कलेक्टरों एवं विनिवेश मंत्रालय कों सीबीआई  नें नोटिस भेजकर जिंक के सौदे से जुडे दस्तावेज मांगे है। सीबीआई जोधपुर नें इस सौदे को मेटल कानून 1976 का उल्लघंन मानते हुए। इस सौदे को अवैध मानते हुए शेयर होल्डिंग बेचने के दौरान प्राइवेट वेल्युअर से हिदुस्तान जिंक लि. की वेल्युएशन जानबुझ कर कम कराई जिसमें जिंक के अधिकारी व तत्कालिन विनिवश मंत्री अरूण शौरी व इस्पात एवं खान मंत्री सुन्दरलाल पटवा की मिली भगत सें कई माईन्स जिसमें सोना, चांदी, जस्ता, सीसा आदि से परिपूर्ण खानों को कौडिय़ों के भाव बैच दिया गया, जिनका कोई मूल्यांकन रिर्पोट में अंकन नही है यानि करीबन 1 लाख करोड़ रूपये वाली कंपनी के 64 प्रतिशत शेयर 1500 करोड़ में बेच दिये । जबकि उदाहरणनार्थ इस कपंनी की सभी युनिटों आदि की वेल्युएशन 13 लाख करोड़ से भी अधिक प्राप्त दस्तावेजों के अनुसार है अब 29.54 प्रतिशत ओर शेयर खरीदने के लिये पिछलें साल 24.663 करोड़ रूपयें का ऑफ र दिया है जिसमें मजदुरो (कर्मचारीयों)के शेयर भी शामिल है जो किसी को भी बेचने का अधिकार नही है ?
 
 
उदयपुर, भीलवाड़ा, अजमेर, चित्तौडग़ढ़ एवं गुटुर के कलेक्टर व विनिवेश मंत्रालय एवं हिंदुस्तान जिंक लि. के अधिकारीयों को नोटिस देकर रिकार्ड मांगा गया है जांच का फ ोकस मुख्य रूप से वेदान्ता रुप के मालिक अनिल अग्रवाल पर है । हिदंस्तान जिंक लि. के तत्कालिन सीएमडी बी.एन. मित्तल, एस.के. कुन्दरा व केवीवीके शेसावतरम् का भी नाम रिर्पोट में है ।
लगभग 11 वर्ष पूर्व हिंदुस्तान जिंक लि. का विनिवेश कर इसें एक निजी कंपनी वेदान्त समुह की स्टरलाइट ऑप्टिकल एण्ड वैंचर्स लिमिटेड (एसओवीएल)के हाथों में सौपनें (बेचना) का फैसला संवैधानिक प्रावधानों कें खिलाफ  था। पुराने दस्तावेजों से मिली सूचना के अनुसार मेटल कॉरपोरेशन ऑफ  इण्डिया का 1966 में अधिग्रहण सरकार ने किया था । इसके लिये ससंद में बकायदा कॉरपोरेशन ऑफ  इण्डिया एज्विेशन एण्ड अन्डर टेकिंग एक्ट पारित कर कानून बनाया गया था जिसका विधिवत अधिग्रहण के बाद कॉरपोरेशन ऑफ  इण्डिया हिंदुस्तान जिंक लिमिटेड बन गया। जिंक लिमिटेड को सरकारी नियंत्रण में लेने के लिये पारित कानून आज भी प्रभावी है लेकिन इस कानून का उल्लंघन कर कम्पनी को 2002 में विनिवेश के नाम पर बेचान किया गया है जो सम्पूर्ण राष्ट्र के साथ एक धोखा है। कानून की आखों में धूल झोंक कर हिदुस्तान जिंक को स्टरलाइट ऑप्टिकल एण्ड वैंचर्स लिमिटेड (एसओवीएल) कों हस्तांतरण कर दिया गया है। 
 
 
सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार 2003 में सुप्रीम कोर्ट के एक फैसलें को आधार माना जाए तो केन्द्र सरकार केन्द्रीय कानून के जरियें  अधिग्रहीत की गई कंपनी पर बिना कानून में संशोधन किए अपना नियंत्रण समाप्त नहीं कर सकती । तेल कम्पनिया बीपीसीएल व एचपीसीएल के प्रस्तावित विनिवेश के खिलाफ दायर याचिका पर सुप्रीम कोर्ट का यह फैसला आए भी 11 साल हो चुके है । हिदंस्तान जिंक लि. 1966 के पूर्व मेटल कॉरपोरेशन इण्डिया के नाम से एक  कम्पनी थी यह कम्पनी सामरिक जरूरतों के काम आने वाले सिसा व जस्ता धातु का खनन कार्य करता था । केन्द्र सरकार ने चीन व पाकिस्तान युद्व के बाद राष्ट्रहित व सामरिक जरूरतों की चीजों पर पूर्ण नियंत्रण को ध्यान में रखकर 1966 में मेटल कॉरपोरेशन इण्डिया का अधिग्रहण किया था बाद में मेटल कॉरपोरेशन इण्डिया हिदुस्तान जिंक बन गया ।
 
 
कंपनी को ओवरटेक करनें के लिये सम्बधीत विभागों एवं अधिकारियों ने मिलकर एक निजी कंपनी आर.बी.शाह से संपति व शेयरों का मूल्याकंन करवाया शाह ने  स्टरलाइट ऑप्टिकल एण्ड वैंचर्स लिमिटेड को फ ायदा पहुचानें के लिये कारखाने, जमीने, खाने, बिल्डिंग्स आदि की काफी कम किमत आंकी जिसमें कई खानें, कारखाने, एक चांदी की खान में हजारो टन चांदी का खनन कर वेदान्ता कंपनी मालोंमाल हो गई  गौरतलब बात यह है कि है वेदान्ता कंपनी कौन है ओर कहां से आई है, जबकी विनिवेश के समय इसका नामों-निशान नही था जो जांच का एक विषय हैं? वही घोसुन्डा बांध  व अन्य संपति विनिवेश में शामिल नही है फि र भी स्टरलाइट ऑप्टिकल एण्ड वैंचर्स लिमिटेड कम्पनी का अधिकार हो गया यह हस्तांतरण राष्ट्रपति भवन में मात्र 100 रूपयें के स्टाम्प पर हुआ है जिसके भी दस्तावेज हमें प्राप्त हुए है 
 
 
अनेकों जगह पर लाखों करोडों की संपति है वही कंपनी के पास खनिज का लाखों-करोडों का स्टाक था व रॉ-मटेरियल व भंगार का कोई वेल्यवेशन नही किया गया । मात्र भंगार को बेचने से पूरी कंपनी की कीमत वसूल कर ली गई। कई कारखानों व खानों का एमओयू नही हुआ।  अब शेष शेयरों में से 29 प्रतिशत शेयर सरकार व 7 प्रतिशत शेयर लोगों के पास है एवं मजदूरों के शेयर मजदूरों को नही दिये गये । यह शेयर किसके पास है यह आश्र्चय का विषय है? 
 
 
गत दिनो लेकसिटी प्रेस क्लब में उदयपुर में आयोजित प्रेस वार्ता में इंटक के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष के.के. शर्मा नें कहा है कि जिंक के निजिकरण हम पहलें से ही विरोध करते आ रहे है, लेकिन हमारी एक नही सुनी गई क्योकि इसके बदलें मोटी राशि बांटी गई थी । एक सवाल पर कहा है कि वर्तमान में भी हमारी सरकार ने भी कोई कार्यवाही नही की है और एक भी नही सुनी गई । तत्कालिन विनिवेश मंत्री पर निशाना साधते हुए शर्मा ने कहा है कि पूरे घपलें में नेताओं के साथ नौकरशाही भी लिप्त है इसका पर्दाफाश कर इन्हे दंडित किया जावें । साथ ही निजीकरण निरस्त किया जावें ।
 
 
इंटक के प्रदेश सचिव राधेश्याम सेन ने आरोप लगाया है कि मजदूरों के खान मंत्रालय में पडें 3.5 प्रतिशत शेयर पर भी जिंक प्रबधन नजरे गढाएं हुए है जबकी इन शेयरों पर श्रमिकों का अधिकार है दुर्भाग्यवश हमारी सरकार होने के बाद भी न्याय नही मिल रहा है हमारी वाजिब मांगों पर भी केन्द्र में भी कांग्रेस सरकार साथ नही दे रही है । 
इधर पत्रकार जगत से राजनिति में आयें अरूण शौरी जों की एनडीए सरकार में विनिवेश मंत्री थें ने जिंक में 2002 में हुए विनिवेश की प्राथमिक जांच को खारिज कर दिया गया है वेदान्ता गु्रप के चेयरमेन अनिल अग्रवाल व अन्य अज्ञात व्यक्तियों के खिलाफ दर्ज प्राथमिकी पर सीबीआई की जांच पर आश्र्चय व्यक्त किया है उन्होने कहा है कि हिदुस्तान जिंक विनिवेश मामलें में प्राथमिकी जांच के पीछें कांग्रेस की अन्दरूनी राजनीति है व व्यवसायिक प्रतिस्पर्धा जिम्मेदार है । उन्होने कहा कि अनिल अग्रवाल की स्टरलाइट ऑप्टिकल एण्ड वैंचर्स लिमिटेड कम्पनी ने अधिग्रहण के बाद उल्लेखनीय प्रगति की है । 
 

नई पुरानी खबरें

Advertise-with-us

Contact us- 104, बड़जात्या चेम्बर एम.वाय.हासिपटल के सामने, इंदौर |
 
Call: 9977693658 || 9827096073 

For rajasthan
Call:9928614443||9602744447
Contact us- C-104,Kumbha nagar opp. watertank,chittorgarh(Raj.)